Trending News

flex fuel: अब फ्लेक्स फ्यूल से चलेंगे गाड़ियां, पेट्रोल डीजल की तुलना में है काफी सस्ता जानें पूरी डिटेल्स 

RV400 BRZ
Written by Trending News

flex fuel: अब फ्लेक्स फ्यूल से चलेंगे गाड़ियां, पेट्रोल डीजल की तुलना में है काफी सस्ता जानें पूरी डिटेल्स 

मंत्री नितिन गडकरी भारत के ऑटोमोबाइल और परिवहन क्षेत्र को सुधारने के लिए कई प्रयास कर रहे हैं। उनका सपना है कि 2030 तक भारत में अधिकतम इलेक्ट्रिक वाहन चलें। उनका मानना है कि आगे चलकर भारत ऑटोमोबाइल सेक्टर में दुनिया का नंबर वन निर्माता बन सकता है।

 

इस दिशा में कई प्रोजेक्ट्स का आयोजन किया गया है, जैसे कि 15 फरवरी को यूपी के शहर में कुछ सड़कों का उद्घाटन। इन परियोजनाओं की लागत लगभग ₹17,500 करोड़ है। इसके अलावा, गडकरी जी का यह भी ऐलान है कि वे फ्यूल फ्लेक्सिबिलिटी को बढ़ावा देने के लिए कई उपाय कर रहे हैं।

 

फ्लेक्स फ्यूल की प्रोत्साहना भी उनका एक मुख्य उद्देश्य है। यह विकल्प पेट्रोल और डीजल की तुलना में सस्ता होता है और प्रदूषण को कम करता है। इसके साथ ही, फ्लेक्स फ्यूल वाहनों का परफ़ॉर्मेंस भी बेहतर होता है और इंजन की लंबी उम्र को भी बढ़ाता है। यह एक संवेदनशील और प्रभावी विकल्प है जो पर्यावरण के प्रति भी जिम्मेदारी लेता है।

फ्लेक्स फ्यूल पर भी ध्यान दें

आज के दिनों में फ्लेक्स फ्यूल का उपयोग कई देशों में बढ़ता जा रहा है। भारत भी इस क्षेत्र में अपनी उपस्थिति मजबूत करने के लिए प्रयासरत है। यहाँ तक कि भारत में फ्लेक्स फ्यूल के निर्माण की कार्यवाही की जा रही है, जिससे पेट्रोल में इसका मिश्रण किया जा सकेगा और पेट्रोल की क्षमता बढ़ाई जा सकेगी।

RV400 BRZ

फ्लेक्स फ्यूल एक प्रकार का ईंधन है जिसमें पेट्रोल और डीजल में एथेनॉल मिलाकर तैयार किया जाता है। इसके फायदे में शामिल है कि यह आयात की जाने वाली कच्चे तेल की खपत को कम करता है।

फ्लेक्स फ्यूल को अल्कोहल आधारित ईंधन भी कहा जाता है, जो पेट्रोल और एथेनॉल के मिश्रण से तैयार किया जाता है। फ्लेक्स फ्यूल के इंजन को ऐसे तैयार किया जाता है कि वह 100 प्रतिशत तक पेट्रोल और एथेनॉल के मिश्रण से चल सकता है, और इसमें बैटरी का उपयोग भी किया जा सकता है।

फ्लेक्स फ्यूल के कुछ फायदे हैं

यह कार्बन प्रदूषण को कम करता है।

इससे प्रदूषण का स्तर कम होता है।

इसकी खपत कम होती है।

इंजन की लंबी उम्र के साथ चलता है।

गाड़ियों का प्रदर्शन बेहतर होता है।

यह वाहन के ऑक्टेन स्तर को बढ़ाता है।

फ्लेक्स फ्यूल वाहन तुलनात्मक रूप से कम जहरीले धुएं उत्सर्जित करते हैं।

इसकी कीमत पारंपरिक पेट्रोल की तुलना में सस्ती होती है।

About the author

Trending News

Leave a Comment