Insurance

EPFO Interest Rates: कभी घटा तो कभी बढ़ा, पिछले आठ साल में ऐसा रहा PF का रिटर्न

EPFO Interest Rates
Written by Trending News

EPFO Interest Rates: कभी घटा तो कभी बढ़ा, पिछले आठ साल में ऐसा रहा PF का रिटर्न

 

EPFO Interest Rates : रिटायरमेंट फंड बॉडी ईपीएफओ (EPFO) ने देश के करोड़ों कर्मचारियों को बड़ी सौगात दी है. दरअसल, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ EPFO ने 2023-24 के लिए ईपीएफ EPFO जमा पर ब्याज दर शनिवार को 8.25 फीसदी तय कर दी.यह पिछले 3 साल year में सर्वाधिक है. आइए जान लें कि पिछले 8 साल year में किस दर से ब्याज मिलता रहा है।

EPFO Interest Rates

EPFO Interest Rates

EPFO Interest Rates

2016-17 से इसे शुरू करते हैं. उस साल ईपीएफ EPF की ब्याज दर 8.65 फीसदी थी. एक साल बाद 2017-18 में यह दर 8.55 फीसदी पर आ गई. 2018-19 में ईपीएफ EPF की ब्याज दर को 8.65 फीसदी कर दिया गया. 2019-20 में सरकार government ने ब्याज दरें 8.5 फीसदी निर्धारित की. यही दर 2020-21 में भी बनी रही और ईपीएफ EPF में जमा राशि पर पेंशनर को 8.5 फीसदी ब्याज मिलता रहा।

वित्त वर्ष 2021-22 के लिए सरकार government ने ईपीएफ EPF जमा पर 4 दशक की सबसे कम ब्याज दर 8.1 फीसदी को मंजूरी दी थी. 2022-23 में ईपीएफ EPF की ब्याज दर को 8.15 फीसदी कर दिया गया।

पिछले 8 साल में PF पर किस दर से ब्याज मिलता रहा है

2016-17 में 8.65 फीसदी

2017-18 में 8.55 फीसदी

2018-19 में 8.65 फीसदी

2019-20 में 8.50 फीसदी

2020-21 में 8.50 फीसदी

2021-22 में 8.10 फीसदी

2022-23 में 8.15 फीसदी

2023-24 में 8.25 फीसदी

क्या होता है ईपीएफ

एंप्लाई प्रोविडेंट फंड (EPF) को संभालने के लिए सरकार government की तरफ से ईपीएफओ EPO बनाया गया है. फंड के पैसे की देखभाल और रखवाली यही संस्था करती है. ईपीएफ EPF एक ऐसी स्कीम है जिसमें कोई कर्मचारी अपनी सैलरी का कुछ हिस्सा जमा करता है।

यह पैसा paisa उसकी प्रोविडेंट फंड अर्थात आगे के खर्च के लिए जमा किया जाता है. नौकरीपेशा लोगों के लिए ईपीएफ EPF का पैसा उनकी जिंदगी भर की कमाई होती है. इस स्कीम scheme में जमा पैसे रिटायरमेंट के बाद निकालता है. कुछ खास स्थितियों में पहले भी पैसे निकाले जा सकते हैं।

 

About the author

Trending News

Leave a Comment